Category Archives: Disease & Prevention

You Need to Know About Wonderful Facts of Oxidative Stress

healthjaagran.com

Oxidative stress is the prominent reason of chronic degenerative diseases in the human body. It has been made a big health issue in front of humanity.

Oxygen paradox

You know that oxygen is an essential need of life. But it has also an adverse effect on your health. This is called as oxygen paradox. In fact, oxygen gives us life by giving energy. But, parallely it gives us stress too i.e. stress due to free radicals, which is not good for healthy life.

It has been proved scientifically that oxidative stress is the main reason behind more than 70 chronic degenerative diseases. Hence, human body cell degeneration is the outcome of this stress level or we can say that free radicals level in the body.

Oxidative stress and its process

Oxygen is inhaled by human beings through respiratory system. It is used for burning of food particles so that to convert food into glucose.

During the process of food burning, an electron of oxygen is used for initiating food metabolic process. Along with nutrients, unwanted & unstable molecules are also generated in the cells. These unstable molecules try to make them stable by stealing electron from nearby molecule of cell. It starts a chain reaction. As a result, it promotes deterioration of body cells. This complete phenomenon of cell degeneration due to oxidation in the body is known as oxidative stress.

Oxidative stress is defined as a phenomenon, caused by imbalance in between the generation of free radicals and the reduction of free radicals by body’s defence mechanism. Free radicals act like an oxygen reactive species in the body.

Free radicals

Chemical species or molecules with unpaired electrons are known as free radicals. These are generated during the state of oxidative stress in the body. Free radicals can damage body cells by creating a regular chain of oxidation.

Free radicals are molecules with only one electron in its outer orbital.

You might have noticed many common phenomenon in your day today life. Few are here like rust in iron pieces, colour change in a cut piece of fruits etc. All these happen because of oxidative stress or free radicals.

UV+UF purifier

AIR purifier

Purify UF+UV

What are the main causes of oxidative stress ?

There are so many causes of oxidation in the body. Few are here. You can check them. Check given below factors. These factors will ensure the facts.

Pathological sources (external factors) of oxidative stress

  1. Air pollution
  2. Soil pollution
  3. Water pollution
  4. UV radiations
  5. High use of allopathic medicines
  6. Adulteration of food products
  7. Bad farming practices
  8. High consumption of fast foods

Physiological sources (internal factors) of oxidative stress

  1. Internal metabolism issues
  2. Respiration
  3. Nutritional deficiencies
  4. Diseases
  5. Stressful busy lifestyle

Defence factors of body against free radicals

  • Using antioxidants (Vit. A, C & E)
  • Metal carrier proteins
  • Generation of scavenging enzymes

Formation of free radicals in the body is a normal phenomenon. But the formation of excess free radicals in the body is harmful. Obviously, it is not good for your healthy body and healthy life.

So, you should be aware about its prevention.

How to prevent against free radicals ?

  • Regular exercise – daily exercise
  • Positive attitude – no stress
  • Adequate rest – sound sleep
  • Good nutrition – organic supplementation

Oxidative stress prevention supplements

Human body is more susceptible to infections. Although, pandemic situations are most crucial for human beings. So, you need to use organic supplements. On the other hand, regular doses of powerful antioxidants are essential for boosting your immune health. Supplements make you capable of fighting against infection like covid-19.

Following organic supplements can help you in building your immune system against oxidative stress:

  • Multivitamin and multiminerals. Help in conducting several chemical reactions in the body.
  • Multicarotene. Prevention from free radicals at cellular level.
  • Vitamin C. Supports in prevention from free radicals.
  • Protein. Helps in overall growth and maintenance of cells.
  • Omega-3. Maintains good fatty acids balance in the body.
  • Tulsi. Acts as a powerful antioxidants.
  • Ashwagandha. Helps as a powerful vitality booster.
  • Echinacea. Supports immune system.
  • Garlic. Acts as a powerful natural antibiotic.

Please keep in touch with us


Tulsi Rose Tea

Mint Green Tea

Tulsi, Moringa & Mint Tea

Cinnamon Tea

Best Way to Know the Facts of Degenerative Disorders in Life

Evolution of modern medical science was done to prevent human beings from infectious diseases like plague, chechak, heza (cholera) etc. But now these infectious diseases are no more in the world. That place has been occupied by common degenerative disorders.

Modern medical science had increased the life span of human beings but today it seems to be decreasing due to bad Lifestyle habits of human beings. Human beings are living short healthy life and long unhealthy time of their life. They have been victimized by their own way of living.

Degenerative Disorders

Today, infections are not the only responsible factor for our common incurable diseases. The main reason behind our existing problems is our bad lifestyle habits from wake-up in the morning to the late night.

Definition Of Degenerative Disorders

A type of disease, in which the condition of affected tissue or organ get worse over time due to cellular degeneration, is known as Degenerative Disorder.

Coronary artery disease (CAD), Diabetes, Asthma, Ulcer, Cancer, Blood pressure etc. are most of common examples of Degenerative Disorders. These disorders come to in existence after regular deficiency of essential nutrients in the body. Although, there is a big difference in the origin of both infectious diseases and degenerative disorders. So, it is worthless to believe on the fact that incurable diseases could be resolved by existing medical services only.

Most of diseases in the present world, are becoming incurable just because of our bad lifestyle habits and same old mindset towards our treatment procedures. It is obvious to see that every person has almost same lifestyle disorders but instead they differ from each other in some aspects.

Degenerative disorder is not a new topic for mankind. Actually, they existed earlier too but previously these disorders belonged to a particular category (age wise, old aged person) of mankind and now these are becoming common among people due to drastic changes in lifestyle habits with respect to time.

Modern trend of health care industry reflects positive sign of increase in the number of degenerative disorders among human beings.

Following are the factors responsible for increase in degenerative disorders among people of a country:

  • Elevated population growth
  • Commercialization of health services
  • Economical & financial challenges
  • Corruption
  • Lack of basic needs & services
  • Lack of awareness
  • Commercialization of farming practices
  • Mental stress due to busy & hectic lifestyle

Degenerative disorders can be affected or generated by any one of physical health, social health or mental health.

Degenerative Disorders

Human beings need to boost up their immune system for fighting against such disorders which are incurable due to their long lasting phenomenon and the only way of fighting against them is to use nutritious healthy food (good nutrition) with healthy attitude.

We need to think over degenerative disorders seriously so that to prevent human beings from this uncalled disaster.

Learn before the time come, Earn before the time go.

– Health Jaagran

Tulsi Rose Tea

Mint Green Tea

Tulsi, Moringa & Mint Tea

Cinnamon Tea

Diabetes Is Caused by Bad Lifestyle of People in the World: डायबिटीज

Diabetes is in the list of top 10 most common diseases in the world. Diabetes is caused by bad lifestyle of people. It is not a pandemic rather it is a lifestyle disease. Here, the complete cruspy information is being provided in hindi language.

डायबिटीज, जिसे हम हाई ब्लड शुगर के नाम से जानते हैं। इंडियन संदर्भ में अगर बात करें तो, पिछली सदी से भारत में इसे मधुमेह या हनी यूरिन के नाम से जाना जाता है।

डायबिटीज क्या है ?

#What is Diabetes in Hindi

डायबिटीज, एक मेटाबॉलिक डिसऑर्डर या फिर कहें चयापचय विकार है। मतलब एक गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल रोग है, जिसका संबंध डाइजेस्टिव सिस्टम (पाचन तंत्र) से है। इसमें ब्लड शुगर बढ़ जाता है या फिर कहें ग्लूकोस की मात्रा बढ़ जाती है।

विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) के अनुसार, डायबिटीज दुनिया के शीर्ष 10 रोगों में से एक है जिसकी वजह से सबसे ज्यादा लोगों की मृत्यु होती है। दुनिया भर में लगभग 500 मिलियन लोग इससे ग्रसित हैं। 1980 में यह आंकड़ा लगभग 100 मिलियन का था। आज इन 35-40 सालों में यह 5 गुना हो गया है। दुनिया भर में लगभग 5 मिलियन लोगों की मौत हर साल डायबिटीज से होती है। दुनियाभर में अगर बात करें तो चाइना के बाद, भारत दूसरे नंबर का देश है। जिसमें सबसे ज्यादा डायबिटिक रोगी हैं।

डब्ल्यूएचओ (विश्व स्वास्थ्य संगठन) के अनुसार, डायबिटीज में ग्लूकोज की मात्रा बढ़ जाती है। इसका कारण या तो पहला वंशानुगत (हैरीडेट्री जींस) या फिर दूसरा पोषण की कमी हो सकती है।

वास्तव में होता क्या है ?

#Process Of Glucose Formation

हमारा शरीर तीन प्रकार से ग्लूकोज प्राप्त करता है।

पहला तरीका है,

इंटेस्टाइनल अब्जॉर्प्शन आफ फूड (आंतों में भोजन से ग्लूकोज का शोषण)

जब हम खाना खाते हैं तो हमारे आमाशय (स्टोमक) में खाना पचता है। छोटी आंत, लीवर, पेनक्रियाज, गॉलब्लैडर से होते हुए बड़ी आंत से एनस के रास्ते बाहर निकल जाता है। जब हमारा खाना पचता हुआ छोटी आंत तक पहुंचता है तो छोटी आंत के ल्यूमन भाग में स्थित माइक्रो विली (स्पिंडल लाइक स्ट्रक्चर) इस पचे हुए खाने से पोषक तत्वों व ग्लूकोज को छोटी आंत के दूसरे हिस्से मे यानी रक्त (ब्लड) में स्थानांतरित करते हैं। फिर सभी पोषक तत्व व ग्लूकोज रक्त के जरिए शरीर के सभी भागों तक पहुंचते हैं। यह पहला तरीका है जिससे हमारा शरीर ग्लूकोज प्राप्त करता है।

दूसरा तरीका है,

ब्रेकडाउन ऑफ ग्लाइकोजन के द्वारा

ग्लाइकोजन क्या होता है? (#What is Glycogen) यह ग्लूकोज का संग्रहित (स्टोरेज) फॉर्म है। शरीर में जब खाने से लिये गए ग्लूकोज की मात्रा अत्यधिक हो जाती है तो इंसुलिन हार्मोन ग्लूकोज की इस अत्यधिक मात्रा को ग्लाइकोजन में बदल कर मसल्स और लीवर की कोशिकाओं में संरक्षित रखता है। ताकि शरीर को जरूरत पड़ने पर इस संरक्षित किए गए ग्लूकोज, जिसे हम ग्लाइकोजन के नाम से जानते हैं। इसे प्रयोग में लाया जा सके। ग्लूकागोन हार्मोन की सहायता से ग्लाइकोजन को ग्लूकोज में परिवर्तित किया जाता है। यह दूसरा तरीका है जिससे हमारे शरीर को ग्लूकोज मिलता है।

तीसरा तरीका है,

ग्लूकोज जनरेशन फ्रोम नॉन कार्बोहाइड्रेट सब्सट्रेट इन द बॉडी

मतलब जो प्रोटीन और वशा (फैट्स) हमारी बॉडी में होते हैं, उनके द्वारा भी हमें ग्लूकोज मिलता है। अगर कार्बोहाइड्रेट हमारी बॉडी में कम है, तो प्रोटीन और फैट्स से भी हमें ग्लूकोज प्राप्त होता है। जिस भी प्रकार से हमें ग्लूकोज मिलता है, उसकी मात्रा को संतुलित (बैलेंस) करने का काम होता है इंसुलिन हार्मोन का, जो की पेनक्रियाज के अंदर बीटा कोशिकाओं के द्वारा बनाया जाता है। इंसुलिन हार्मोन ग्लाइकोजन ब्रेकडाउन की प्रक्रिया और ग्लूकोज जनरेशन की प्रक्रिया को रोक सकता है (जो नॉन कार्बोहाइड्रेट सब्सट्रेट से होते हैं) और ग्लूकोज को ग्लाइकोजन के रूप में मसल्स कोशिकाओं व लीवर कोशिकाओं में संग्रह कर सकता है।

मेटाबोलिक एक्टिविटी

#Metabolic Activity

पूरी मेटाबोलिक एक्टिविटी की बात करें तो जैसे ही हम खाना खाते हैं ।पेनक्रियाज, इंसुलिन हार्मोन को उत्पन्न करता है और इंसुलिन उस खाने को ग्लाइकोजन के रूप में लीवर और मसल्स कोशिकाओं में संग्रहित करता है ताकि शारीरिक जरूरत पड़ने पर ग्लाइकोजन को ग्लूकागोन हार्मोन की सहायता से ग्लूकोज में परिवर्तित करके प्रयोग में लाया जा सके। इंसुलिन एक कैरियर की तरह काम करता है।

इंसुलिन, ग्लूकोज को क्रोमियम की सहायता से कोशिका के अंदर ले जाने में सहायक होता है। क्रोमियम, इंसुलिन रिसेप्टर्स के साथ काम करके इंसुलिन को कोशिकाओं के अंदर आने में मदद करता है। जिससे कि ग्लूकोज लीवर और मसल्स कोशिकाओं के अंदर ग्लाइकोजन के रूप में संग्रहित सके। इसके विपरीत ग्लूकागोन हार्मोन लीवर और मसल्स कोशिकाओं से संग्रहित ग्लाइकोजन को ग्लूकोज में बदलकर ब्लड शुगर या कहें ग्लूकोज स्तर को सामान्य बनाए रखता है।

शरीर की कोशिकाओं के द्वारा ग्लूकोज का शोषण ना होने के मुख्य कारण क्या हैं ?

या

ब्लड शुगर बढ़ने के कारण क्या हैं ?

या

डायबिटीज होने के कारण क्या हैं ?

#Reasons Of Diabetes: Diabetes is caused by

पहला कारण है,

इंसुलिन की मात्रा कम होना

Diabetes is caused by insufficient amount of insulin.

इससे ग्लूकोज संग्रहण (स्टोरेज) कम होता है। वास्तव में, पेनक्रियाज कम इंसुलिन बनाने लगता है। टाइप वन डायबिटीज में यह पहला कारण ही होता है। शरीर में इंसुलिन की मात्रा कम बनती है जिसके कारण ग्लूकोज, कोशिकाओं के अंदर नहीं जा पाता और ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है।

दूसरा कारण है,

शरीर की कोशिकाओं द्वारा इंसुलिन हार्मोन को प्रतिक्रिया ना देना

Diabetes is caused by non response activity of body cells against insulin.

इस स्थिति में बॉडी सेल्स, इंसुलिन हार्मोन को प्रतिक्रिया (रिस्पांस) नहीं देते हैं। टाइप टू डायबिटीज में यही होता है। शरीर की कोशिकाओं में स्थित इंसुलिन रिसेप्टर्स, इंसुलिन को कोशिकाओं के भीतर प्रवेश नहीं होने देते हैं जिस वजह से कोशिकाओं में ग्लूकोज या ग्लाइकोजन संग्रहण नहीं हो पाता है और ब्लड शुगर का स्तर बढ़ जाता है।

तीसरा कारण है,

पोषक तत्वों की कमी के कारण इंसुलिन हार्मोन की कार्य क्षमता कम होना

Diabetes is caused by decrease in work potential of insulin hormone due to deficiency of nutrients

पोषण की कमी के कारण शरीर में इंसुलिन का दोषपूर्ण (डीफेक्टिवेनेस) होना, जिसके कारण इंसुलिन रिसेप्टर निष्क्रिय (इन एक्टिव) रहते हैं और वह इंसुलिन को स्वीकार नहीं कर पाते हैं, जिसकी वजह से ग्लूकोज, कोशिका (सेल) के अंदर नहीं जा पाता है।

अब बात करते हैं डायबिटीज के लक्षणों की,

डायबिटीज होने के लक्षण क्या हैं ?

#Symptoms Of Diabetes

1. डायबिटीज में आप देखोगे लोगों को अक्सर पेशाब (यूरिन) होने लगती है। जिस किसी को डायबिटीज होता है उसे जल्दी-जल्दी यूरिनेशन होता है।

2. मीठा खाने का बहुत मन करता है।

3. बहुत थकान होती है।

4. चिड़चिड़ापन होता है।

5. भूख बढ़ जाती है।

अगर हम डायबिटीज का समाधान या रोकथाम ना करें और उसको फिर आगे ले जाएं तो बहुत सारी जटिलताएं (कॉम्प्लिकेशंस) हमारे शरीर में आने लगती है और उन जटिलताओं की अगर बात करें, क्या होती हैं?

1. अंधापन होने लगता है। आंखों की नजर (विशन) कम होने लगती है।

2. अगर फिर भी ध्यान नहीं दिया तो किडनी भी फेल हो सकती है।

3. पैरों में अल्सर होने लगते हैं।

4. कोरोनरी रोग बढ़ जाते हैं।

5. नर्वस सिस्टम को प्रभावित करता है।

6. मृत्यु होने की संभावना बढ़ जाती है। इसलिए हमें ध्यान देना चाहिए कि डायबिटीज को कैसे नियंत्रित रखें।

डायबिटीज के प्रकार

#Types Of Diabetes

हम जानेंगे कि विभिन्न प्रकार के डायबिटीज कौन-कौन से होते हैं।

सबसे पहला होता है, टाइप वन डायबिटीज: #Type 1 Diabetes

टाइप वन डायबिटीज मुख्यतः फैमिली हिस्ट्री से जुड़ा हुआ है। हम यह कह सकते हैं कि वंशानुगत जींस की वजह से टाइप वन डायबिटीज होता है।

यह बच्चों में ज्यादा पाई जाती है और आप देखोगे यह होता क्यों है? सबसे पहला कारण जो डायबिटीज का था। इंसुलिन की कमी के कारण यह टाइप वन डायबिटीज होता है और इसे इन्सुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज भी बोल सकते हैं क्योंकि इंसुलिन की कमी से होता है।

दूसरा होता है, टाइप टू डायबिटीज: #Type 2 Diabetes

हम पहले भी जान चुके हैं कि टाइप टू डायबिटीज की अवस्था में बॉडी सेल्स, इंसुलिन को प्रतिक्रिया नहीं देते हैं, जिसकी वजह से ग्लूकोज कोशिकाओं के अंदर नहीं जा पाता और ब्लड में ही उसका लेवल बढ़ता जाता है। आज के समय में 90% लोग टाइप टू डायबिटीज से ग्रस्त हैं क्योंकि यह मुख्यतः लाइफ़स्टाइल की वजह से होता है।

आज के समय में, लोगों में शारीरिक व्यायाम का अभाव या अनियमितता है। आप देखोगे स्ट्रेस लेवल बहुत ज्यादा बढ़ गया है। हम आराम बहुत कम कर रहे हैं और हमारी न्यूट्रीशनल वैल्यू बहुत कम हो गई है। हमारी व्यस्त और आधुनिक जीवनशैली की वजह से यह टाइप टू डायबिटीज होती है और इसे हम इन्सुलिन रेजिस्टेंस या फिर इन्सुलिन डिपेंडेंट डायबिटीज भी बोल सकते हैं।

तीसरा प्रकार होता है, जेस्टेशनल डायबिटीज: #Gestational Diabetes

जेस्टेशनल डायबिटीज मुख्यतः प्रेगनेंसी के दौरान प्रेगनेंट वूमेन को होती है। प्रेगनेंट वूमेन को हाई ब्लड शुगर हो जाना एक सामान्य सी बात है। इसके लगभग 2 से 10 प्रतिशत मामले सामने आते हैं जो लगभग ठीक हो जाते हैं। उचित देखरेख और दवाइयों के माध्यम से प्रेगनेंट वूमेन को जेस्टेशनल डायबिटीज से आसानी से बचाया जा सकता है।

इसके अलावा चौथा प्रीडायबिटीज, यह क्या है: #Prediabetes

यदि टाइप टू डायबिटीज बहुत लंबे समय तक चलता है तो उसे प्रीडायबिटीज बोला जाता है।

और

पांचवा होता है, टाइप थ्री डायबिटीज: #Type 3 Diabetes

टाइप थ्री डायबिटीज की अवस्था में इन्सुलिन रेजिस्टेंस, ब्रेन सेल्स के द्वारा किया जाता है। इस अवस्था में दिमागी कोशिकाएं इंसुलिन हार्मोन को स्वीकार नहीं करते हैं जिसकी वजह से ग्लूकोज और अन्य पोषक तत्व दिमाग की कोशिकाओं में नहीं जा पाते हैं और ब्लड में उनकी मात्राएं बढ़ जाती हैं।

टाइप वन और टाइप टू डायबिटीज में मुख्यतः क्या-क्या अंतर हैं ?

#Difference between type 1 and type 2 diabetes

टाइप वन डायबिटीज अचानक से होता है और टाइप टू डायबिटीज अक्सर धीरे-धीरे जीवन शैली के अनुसार होता है। टाइप वन डायबिटीज बच्चों में पाया जाता है और टाइप टू एडल्ट्स में होता है। टाइप वन डायबिटीज में पतले हो जाते हैं और टाइप टू मोटे लोगों में होता है।

डब्ल्यूएचओ, डायबिटीज डायग्नोस्टिक क्राइटेरिया क्या कहता है?

#Diabetes Diagnostic Criteria

आप अगर भूखे पेट अपना ग्लूकोस स्तर देखते हैं तो 110 mg/dl से कम होना चाहिए और अगर हम सामान्यतः खाना खा चुके हैं और उसके बाद देखते हैं तो वह 140 mg/dl से कम होना चाहिए। यह एक डायग्नोस्टिक क्राइटेरिया है जिससे हमें पता चल सकता है कि हमारा डायबिटीज लेवल क्या है? शुगर लेवल क्या है? या फिर, ग्लूकोज लेवल क्या है?

WHO Diabetes Diagnostic Criteria

मेडिकेशन और रोकथाम

#Medication and Prevention Of Diabetes

डायबिटीज से बचाव और रोकथाम करने के लिए हमें अपनी जीवनशैली और पोषण पर काम करना पड़ेगा।

जीवनशैली अच्छी रखने के लिए हमें सबसे पहले, नियमित व्यायाम (रेगुलर एक्सरसाइज) पर जोर देना चाहिए। रोजाना कम से कम आधे से एक घंटा समय व्यतीत करना चाहिए। डायबिटीज की बातें करें तो व्यायाम हमारे शरीर में इंसुलिन हार्मोन की तरह ही प्रभाव डालता है, इसलिए व्यायाम (एक्सरसाइज) बहुत महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

दूसरा, सकारात्मक व्यवहार (पॉजिटिव एटीट्यूड) होना चाहिए। हमें मानसिक रूप से सकारात्मक (पॉजिटिव) होना चाहिए, जिसके लिए हमें अच्छी-अच्छी किताबें पढ़नी चाहिए।

तीसरा, उचित आराम (एडेक्वेट रेस्ट) करना चाहिए। डॉक्टर भी कहते हैं कि 6-8 घंटे आराम करना चाहिए ताकि हमारे शरीर को शरीर की मरम्मत के लिए समय मिल सके।

चौथा, अच्छा पोषण होना चाहिए। फूड न्यूट्रिशन आज के समय पे बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हमारे शरीर की न्यूट्रिशनल पूर्णता के लिए हम क्या कर सकते हैं?

हम जान सकते हैं कि डायबिटीज के उपचार हेतु जो उपयोगी सप्लीमेंट्स हैं, वह क्या हैं?

  • ग्लूकोज हेल्थ,
  • विटामिन बी,
  • मल्टीविटामिन,
  • ओमेगा-3,
  • विटामिन सी,
  • कैल्शियम,
  • जींग सिंग,
  • प्रोटीन,
  • आयरन,
  • फॉलिक और
  • शुगर पाउडर

इन फूड सप्लीमेंट्स में भी अगर कहूं कि सबसे महत्वपूर्ण सप्लीमेंट्स क्या हैं?

#Supplements useful in diabetes
नेचुरल बी (विटामिन बी)

विटामिन बी, कॉम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट है और यह हमारे शरीर के सारे मेटाबॉलिक एक्टिविटीज पर काम करता है इसलिए डायबिटिक रोगी के लिए यह महत्वपूर्ण है।

फाइबर

फाइबर इसलिए महत्वपूर्ण है क्योंकि फाइबर हमारे पाचन तंत्र (जी आई सिस्टम) पर काम करता है। यह पाचन तंत्र का सुधार करता है, क्योंकि हमारे खाने की गती को धीमा करता है और खाने से ग्लुकोज व अन्य पोषक तत्वों का शोषण करने में सहायता करता है। फाइबर से हमें क्रोमियम भी मिलता है, जो कि इंसुलिन के साथ मिलकर शरीर में ग्लूकोज के स्तर को नियंत्रित करता है।

मल्टीविटामिन

बहुत महत्वपूर्ण है क्योंकि मल्टी विटामिन हमारे शरीर में उर्जा उत्पन्न करने में सहायक है और जैसा कि हम जानते हैं डायबिटीज में ऊर्जा की कमी होती है, जिससे हमें बहुत थकान लगती है इसलिए मल्टीविटामिन का उपयोग करके डायबिटीज रोगी को ऊर्जा मिलती है और शरीर के अन्य रासायनिक क्रियाओं में भी सहायता मिलती है।

ओमेगा – 3

हम जान चुके हैं कि डायबिटीज एक जीवन शैली से संबंधित रोग है। शरीर में मुख्यतः ओमेगा 6 और ओमेगा 3 के बीच का असंतुलन होने के कारण अनेक रोग उत्पन्न होते हैं। इसलिए डायबिटीज में शरीर का संतुलन बनाए रखने के लिए ओमेगा-3 का सेवन बहुत ही फायदेमंद है।

जिंग सिंग

इसमें ऐसे पोषक तत्व होते हैं जो इंसुलिन की तरह कार्य करते हैं इसलिए डायबिटीज में जिंग सिंग का उपयोग लाभदायक है।

प्रोटीन

डायबिटिक रोगी के शरीर का प्रोटीन टैंक बहुत ही तेजी से कम होता है और शरीर में प्रोटीन की कमी के कारण अन्य रोग होने की संभावनाएं बढ़ जाती हैं। इसलिए डायबिटीज के रोगी को रोजाना प्रोटीन लेने की आवश्यकता होती है।

Nutrients Help In Diabetes

Video: Diabetes in hindi

Use of organic supplements always helps in improving our health & stay fit us for enjoying the golden moments of life.

– Health Jaagran

Tulsi Rose Tea

Mint Green Tea

Tulsi, Moringa & Mint Tea

Cinnamon Tea

Immunity How to Increase for Fighting Against Infections in Pandemic

At present time, we need to be aware about the pandemic (COVID-19) situations around us. Because it has been spreaded at fast pace and can be stopped only by our own willpower to fight against it by doing good habits and safe practices in our daily routine work. In fact, we know that older adults are at higher risk in this situation (#COVID-19) as compared to young adults. So, it is our sole responsibility to help them and care them. Also, we need to aware them about immunity, how to increase it.

For better health care of older people, we must know about geriatrics ?
So do you know,

What is Geriatrics?


• A branch of medicine or science that deals with the health problems, diseases and caring practices of old age people is known as geriatrics.
If anyone is willing to learn about geriatrics, mostly they are unable to find a geriatrician. Isn’t so ?
But it doesn’t mean that we can’t help our older adult people . We can do it by involving ourselves in the care of older adults and learning how to apply some of things what a geriatricians know.
• We all know that, with increase in the age of a person, diseases in the body of older people also increases. Some common diseases or problems in older adults are Immunity weakness , adult onset Diabetes , Arthritis, Kidney and bladder problems , Dementia , Parkinson’s disease, Cataracts, Osteoporosis, Macular degeneration, Cardiovascular diseases etc. These diseases are mostly because of lack of nutrition, physical in-activeness & positive attitude in our today’s lifestyle.

Do we know reasons?

Why older people are at risk?

Its most common factor, is “ WEAK IMMUNITY”.
So, how can we boost up immunity of our self & our older ones. We know that there is no vaccine for curing pandemic COVID-19. Immunity building could prevent us from infectious disease. So, be aware about immunity, how to increase it.

How to build immunity ?

•Eat a healthy diet which must be high in citrus fruits and vegetables.
•Do hard exercise regularly.
•Have a positive attitude.
•Use of organic products: Many products claim to boost or support immunity. But the concept of boosting immunity actually makes a little sense scientifically. In fact, boosting the number of cells in our body (immune cells or others) with the help of chemical products, is not necessarily a good thing . Using organic ways of boosting our #immune system is a good way.

Diet and Immune system ?

• Healthy immune system needs good and regular nourishment. Scientists, have long recognized that people who live in poverty and are malnourished are more prone to infectious diseases. Whether the increased rate of disease is caused by malnutritional effects on the immune system.
• There are some evidences which show that some micronutrients deficiencies — for example, deficiencies of zinc, selenium, iron, copper, folic acid, vitamins A, vitamin B6, vitamin C and vitamin E, are responsible for effecting immune system of our body.

So, what can we do? If we find that our diet is not providing us our daily need of nutrition.

Improve immunity with herbs and supplements ?

Most of us still thinks that taking supplements is not useful. Is it so ?
Walk into a health care store, and you will find bottles of pills and herbal preparations that claim to boost up your immunity. Demonstrating whether a herb or any substance, for that matter — can enhance immunity is, as yet, a highly complicated matter. Scientists don’t know, but choosing good products and healthy products for yourself must be useful in a way.

How Amway- Nutrilite supplements are useful in increasing immunity ?

Nutrilite is the brand that makes organic supplements with a philosophy of best in science, best in nature and best in traditional wisdom.

Following organic nutritional sources & #supplements help in boosting our immunity and make us capable of fighting against infections:

  • Protein (All plant protein)
  • Vitamin C (Natural C)
  • Vitamin A (Multi carotene)
  • Echinacea citrus concentrate plus
  • Vasaka, Mulethi, Surasa
  • Tulsi
  • Galic
  • Ashwagandha

Content published by Ms. Gunjan Nagarkoti (B.Sc. Nursing)


Tulsi Rose Tea

Mint Green Tea

Tulsi, Moringa & Mint Tea

Cinnamon Tea